Saturday 11 December 2010

कॉमरेड लागू को लाल सलाम

ख्वाब मरते नहीं
मरने का मतलब क्या होता है? कोई मर गया, माने क्या मर गया? क्या मेरे दिल में उसके लिए जो इज्जत थी, वो मर गई? क्या उसके लिए, मेरे कॉमरेड के लिए मेरा प्यार मर गया? क्या उसके शिद्दत से किए गए कामों की यादें मर गयीं? क्या उसकी मेहनत, उसका श्रम और उससे हुए कारनामे मर गए? एक नायक की तरह जी गयी जिंदगी की वो सारी छाप क्या बगैर निशान छोड़े मिट गयी? क्या ये सब खत्‍म हो गया? मैं जानता हूँ कि उसका जो बेहतरीन है, वो मेरे भीतर कभी नहीं मरेगा। मुझे लगता है कि हम ये मानने की हड़बड़ी में रहते हैं कि ‘वो नहीं रहा।' इसी हड़बड़ाहट में हम ये भी जल्द भूल जाते हैं कि अगर हम एक इंसान की जिंदगी की जिंदादिली, सच्चाई की जीत के लिए उठायी गयीं उसकी बेतहाशा तकलीफों और उसकी खुशियों को स्मृति से ओझल न होने देना चाहें, तो वो कभी नहीं मरता। हम भूल जाते हैं कि हर चीज जिंदा दिलों में जिंदा रहती है।
मक्सिम गोर्की की ‘माँ' से

क्सर जया अपने अज्जी-अब्बू को याद करते हुए एक अफ्रीकी कहावत का जिक्र करती है कि जब तक किसी को कोई न कोई याद करने वाला रहता है, तब तक उस इंसान की जिंदगी पूरी तरह खत्म नहीं होती। कॉमरेड अनंत लागू ने इन अर्थों में कई लोगों को उनके निधन के बाद भी जीवित रखा, उनकी यादों को जीवित रखकर। और जब वे खुद इस दुनिया से गये तो अपने आपको अनेक दिलों और जिंदगियों में थोड़ा-थोड़ा बाँट कर गये। लागूजी के निधन के एक-दो महीने पहले ही प्रभु जोशीजी ने कहा था कि विनीत तुम कॉमरेड अनंत लागू का एक इंटरव्‍यू दूरदर्शन के लिए कर दो। मैं लागू जी से मिला तो उन्हें बताया कि प्रभु जोशी ऐसा चाहते हैं। मेरे ऐसा कहते ही उनकी मस्ती की जगह एक संकोच आ गया और वे अपने ही भीतर सिमट गये। कुछ बोले नहीं, बस मुस्‍कुरा दिये। उस मुस्‍कुराहट को मैं पहचानता हूँ। वैसी मुस्कान 87 बरस की उम्र में भी बच्चे सी ईमानदारी के साथ कॉमरेड अनंत लागू की और उनकी छः दशक पुरानी दोस्त पेरीन दाजी की पहचान रही है। ये लोग वैसे चहक-चहक कर किस्से दर किस्से सुनाते जाएँगे लेकिन जैसे ही आपने कहा कि कॉमरेड ये तो बहुत बड़ा कारनामा है, ये तो जरूरी इतिहास है, इन्हें तो रिकॉर्ड करना चाहिए, वैसे ही वो अपने आप में एक संकोची और बेहद विनम्र मुस्‍कुराहट के पीछे छिप जाते हैं।
बहुत कम लोग ऐसे हैं जो किसी पद की वजह से विद्वान मान लिए जाते हैं और वाकई में भी वे विद्वान होते हों। उनमें भी लागूजी जैसे लोग तो और भी दुर्लभ जिन्होंने अपने भीतर तमाम ज्ञान होने के बावजूद अपने आपको कभी किसी के भी सामने महत्त्वपूर्ण जाहिर नहीं किया। न केवल जाहिर नहीं किया बल्कि सच में कभी माना भी नहीं। प्रगतिशील लेखक संघ से जुड़ाव के समय से ही मैं उन्हें देखता आ रहा था, लेकिन उनसे नजदीक से मिलने और उन्हें नजदीक से जानने का अवसर संदर्भ केन्द्र की गतिविधियों की सक्रियता के साथ ही हुआ था।

जब तक वे स्वस्थ रहे तब तक पहले तो अपनी छोटी सी दुपहिया पर ही कार्यक्रमों में और मीटिंगों में पहुँचते रहे। बाद में भी संदर्भ की मीटिंगों में कभी शिन्त्रे जी तो कभी, श्रोत्रिय जी या उनकी दिशा में रहने वाले किसी न किसी का साथ लेकर और अगर कोई साथ नहीं मिला तो आटो रिक्शा करके भी आते रहे। प्रगतिशील लेखक संघ की मीटिंगों में कभी देवतालेजी के घर, बाद में निलोसेजी के घर भी वे अनेक दफा आये। और ऐसा भी नहीं कि आकर उन्हें कुछ मशविरा देना या अपनी उपस्थिति का अहसास करवाना जरूरी ही हो, कई बार डेढ़-दो घंटे की पूरी मीटिंग में सिर्फ सुनकर, बगैर कुछ भी बोले वे वापस लौट जाते थे। जो पुराने लोग थे या जिन्हें लागूजी या देश, प्रदेश या शहर में कम्युनिस्टों के संघर्षों की कुछ जानकारी थी और मध्यवर्गीय साहित्य, कविता, कहानी के पार जमीनी लड़ाइयों के प्रति कुछ सम्मान था, वे ही लागूजी की सहज चुप्पी के पीछे छिपी गंभीरता का मर्म समझ पाते थे, बाकी तो अनेक के लिए वे सिर्फ एक बुजुर्ग उपस्थिति भर रहते थे और लागूजी को इससे कोई ऐतराज भी कभी नहीं रहा। उनका स्‍वभाव सहज स्वीकार का था। वे अपने आपको कभी किसी पर थोपते नहीं थे।
जब संदर्भ केन्द्र की गतिविधियाँ तेज हुईं तो वे अक्सर संदर्भ पर आया करते थे। तभी उनके घर मेरा भी जाना-आना शुरू हुआ। संदर्भ और नौजवान फेडरेशन के साथी आनंद शिन्त्रे के वो नाना भी थे और इप्टा व नाटकों में सक्रिय अजय के पिता भी, तो शुरू में उनसे सहज संकोच रहता था लेकिन इस संकोच को खुद कॉमरेड लागू ने और रहा-सहा आनंद व अजय ने भी तोड़ा। आनंद अक्सर उनसे कॉमरेड संबोधन से ही बात करता था। उनकी उपस्थिति में एक वरिष्ठ की गरिमा रहती थी लेकिन भारीपन हर्गिज नहीं।
तमाम दफा उन्होंने मुँहजबानी कुसुमाग्रज की कविताएँ, शंकराचार्य के श्‍लोक और लोक शाहीर अमर शेख के पोवाड़ा, अन्ना भाऊ साठे के किस्से सुनाये। मुझे साहित्य से राजनीति में दाखिला पाने वाला समझकर वो सोचते थे कि मैं ने तो इन सब के बारे में, और इनका लिखा हुआ पढ़ा ही होगा जबकि मेरे लिए बस इन सबके नाम ही जाने पहचाने थे।
कॉमरेड लागू सब सुना कर फिर जैसे चैतन्य होते हुए कहते थे कि तुम्हें तो ये सब मालूम ही होगा, और मैं संकोच में हाँ-हूँ कर देता था। पहली दफा जब मैंने उन्हें किसी मसले पर गंभीरता से लंबी व्याख्या में दाखिल होते देखा, वो वक्‍त था संदर्भ केन्द्र की एक गोष्ठी का जिसमें लागूजी ने मुंबई की कपड़ा मिल मजदूरों की यूनियन व कम्युनिस्ट पार्टी में 1920 के दशक की हड़ताल के दौरान अम्बेडकर व कॉमरेड डाँगे के मतभेदों की वजहों पर रोशनी डाली थी।
जया को तो वे बहुत प्यार से हमेशा ही ये बताते थे कि तुम्हारी माँ को 1 मई 1975 को मैंने ही पार्टी का मेंबर बनवाया था। तुम्हारी माँ बहुत जबर्दस्त महिला थीं........... और फिर उनके किस्से शुरू हो जाते थे कि कैसे 40 के दशक में होलकर कॉलेज के भीतर स्‍टूडेंट फेडरेशन में वे इन्‍दु मेहता, जो तब इन्‍दु पाटकर थीं, और जया के पिता आनंदसिंह मेहता के संपर्क में आये और फिर वो संबंध लगातार बना रहा। हर बार जया उनसे मिलकर कहती कि कॉमरेड लागू से मिलकर लगता है कि मेरे अज्जी और अब्बू यहीं नजदीक ही हैं।
उनके जन्मदिन पर एक बार जया ने उन्हें एक शर्ट उपहार में दी तो बहुत खुश हुए। उसके चंद रोज बाद ही कपड़ा मिल मजदूरों पर डॉक्‍यूमेंट्री बनाने के सिलसिले में हम उनका इंटरव्यू करने गये। तस्लीम और मैं कैमरा संभाल रहे थे और जया उनसे सवाल कर रही थी। चलते इंटरव्यू के बीच अचानक याद आयी बात से बीच में ही बोले, देखो मैंने तुम्हारी गिफ्ट की हुई शर्ट पहनी है। दो पल तो हमें लगा कि शायद इंटरव्यू से संबंधित ही कोई बात है। जब हम समझे और हमने कैमरा रोका तब तक वे वापस अपनी याददाश्त के रास्ते पर सधे कदमों से बढ़ चले। उस दिन उन्होंने पार्टी का इंदौर में बनना और रानीपुरा में 1946 में मजदूरों के जुलूस पर गोली चलना, मौशीबाई का मजदूरों की लड़ाई को समर्थन देना, भगवानभाई बागी का लाल झण्डे का गाना और भी तमाम 60-65 बरस पुरानी बातें इतनी साफ याद्दाश्त के साथ बतायीं कि सन ही नहीं तारीखें भी उन्हें याद थीं। तब भी उनकी उम्र 83-84 की तो रही ही होगी, लेकिन याद्दाश्त ऐसी कि मानो कल की ही बात सुना रहे हों। तभी उनसे ये सुनकर मुझे रोमांच हो आया था कि कम्युनिस्ट पार्टी का जब मध्य प्रदेश (तत्कालीन मध्य भारत) में गठन हुआ तो इंदौर में बाकायदा पार्टी की सदस्यता के लिए इंटरव्‍यू लिये गये थे।
याद्दाश्त उनकी आखिर तक बिलकुल दुरूस्त थी। इसी बरस की होली के दिन शाम को जया ने कहा कि चलो कॉमरेड लागू से होली मिलने चलते हैं। तब दाजी काकी (पेरीन दाजी) भी जया के घर पर ही थीं। वो बोलीं कि मैं जो किताब दाजी पर लिख रही हूँ, उसमें मुझे कुछ तारीखें और बातें धुँधली सी ही याद आ रही हैं, उनके बारे में सही-सही लागू साहब ही बता सकते हैं, तो मैं भी चलती हूँ। हमारी साथी सारिका भी तैयार हो गयी और मेरी पत्नी अनु और बेटा कार्तिक भी। कॉमरेड दशरथ को भी फोन करके बुला लिया। सब लोग बगैर किसी पूर्व सूचना के जा धमके लागू जी के घर। उनकी बहू सुलभा घर पर ही थी, लागूजी भी थे और इत्तफाक से भोपाल जा बसे सुलभा के पिता और पुराने कॉमरेड श्रोत्रियजी भी आये हुए थे। हम सब को आया देखकर कॉमरेड लागू बहुत खुश हुए। फिर चलीं आजादी के पहले की, आजादी के बाद की, हड़तालों, गिरफ्तारियों, संघर्षों, कामयाबियों और नाकामियों की बातें। उनसे बातें करना किसी एन्साइक्‍लोपीडिया को कहीं से भी पढ़ने जैसा आनंद और ज्ञान देता था।
लागू जी की जबर्दस्त याद्दाश्त के किस्से अनेक हैं। कपड़ा मिलों या मजदूर राजनीति से संबंधित इंदौर की कोई पुरानी जानकारी की तस्दीक करनी हो तो नईदुनिया से भी लागूजी को फोन किया जाता था। उनकी याद्दाश्त का आलम ये था कि जब 2005-2006 में प्रलेसं के संस्थापक बन्ने भाई उर्फ सज्जाद जहीर का जन्म शताब्दी वर्ष हिन्दुस्तान और पाकिस्तान में मनाया जा रहा था तो उसी कड़ी में इंदौर में आयोजित कार्यक्रम में उनकी बेटी नूर जहीर को हमने बुलाया था। कार्यक्रम में लागूजी भी आये थे। कार्यक्रम के दौरान हमने नूर जहीर से लागूजी का परिचय करवाया तो अपनी बेटी की तरह आशीर्वाद और प्यार देने के बाद लागूजी ने बन्ने भाई की एक नज्म नूर जहीर को सुनाते हुए कहा कि ये बन्ने भाई ने (मुझे याद नहीं कि उन्होंने कौन सा सन्‌ बताया था लेकिन मेरे ख्‍याल से पचास के दशक का कोई सन था) किसी सभा में सुनायी थी जिसमें लागूजी भी शरीक हुए थे। नूर के चेहरे पर हैरत, ताज्‍जुब और खुशी के मिले-जुले जज्बात थे। वो बोलीं कि इस नज्म का ये हिस्सा कहीं मिल नहीं रहा था और इन बुजुर्गवार को पचास-साठ बरस पहले की मुँहजबानी सुनी नज्म अब तक याद है। ये सुनकर लागूजी हमेशा की तरह संकोची मुस्‍कुराहट के पीछे सिकुड़ गये।
23 सितम्‍बर 1922 को महाराष्ट्र के सांगली जिले में जन्में श्री अनंत लागू अध्ययन के लिए 1937 में अपनी मौसी के पास ग्वालियर आ गये थे। गुलामी के हालात और अंग्रेजों की हुकूमत उनकी बेचैनी और कुछ कर गुजरने का शुरुआती सबब बने। देश की आजादी के लिए उनका युवा खून खौलने लगा। जोश और जज्बातों के साथ जो उनके पारंपरिक पारिवारिक संस्कारों को आकर्षित करने वाला संगठन लगा, वो था उस वक्त ग्वालियर में सक्रिय राष्ट्रीय  स्वयंसेवक संघ। वहाँ उनके साथी थे श्री गोरे, जो बाद में मेजर गोरे के नाम से जाने गए और कुशाभाऊ ठाकरे।
वे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़कर दरअसल देश की आजादी के संघर्ष का हिस्सा बनना चाहते थे लेकिन जल्द ही उनकी समझ में आ गया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का देश सिर्फ हिंदुओं का देश है। एक दफा मैंने उनसे पूछा कि फिर आप आर.एस.एस. से अलग क्यों हुए, तो बोले कि उनके पास मेरे इस सवाल का कोई जवाब नहीं था कि इंसान इंसान का शोषण क्यों करता है ?
ग्वालियर का एक किस्सा लागू साहब बहुत उत्‍साह से सुनाते थे। सन 1940 की घटना थी। वे वहाँ कॉलेज में पढ़ते थे और जैसा कि वो दौर था, आजादी के आंदोलन में कुछ कर गुजरने का जोश उनमें भी उछालें मारता था। शायद दूसरों से थोड़ा ज्यादा ही, क्योंकि वे पहलवानी भी करते थे। तो एक दिन अंग्रेज सरकार की तरफ से कॉलेज में कुछ ऐसे कार्यक्रम का फरमान आ गया जिससे देश की इज्‍जत की परवाह करने वाले इन नौजवानों को अपमान महसूस हुआ। उन नौजवानों ने तय किया कि कार्यक्रम के पहले की रात में कॉलेज के अंदर विरोध के तौर पर परचे-पोस्‍टर तो चिपकाये ही जाएँ, साथ ही कॉलेज के भीतर फहराने वाले दासता के प्रतीक यूनियन जैक को भी उतार लिया जाए और कॉलेज प्रांगण में लगी जॉर्ज पंचम की मूर्ति को भी कुछ सबक सिखया जाए। मौके के इंतजार में ये लोग कॉलेज बंद होने के पहले कॉलेज में ही छिप गये। रात में पोस्‍टर वगैरह चिपकाने के बाद जब खम्‍भे पर से यूनियन जैक उतार लिया तो लागूजी और उनके साथियों ने उसे फाड़कर उसकी लंगोट बनायी और उसे पहनकर झंडे के खंभे पर मलखम्‍भ किया। जॉर्ज पंचम की मूर्ति के नाक-कान भी तोड़ लिये गए।
किसी भेदिये की करतूत से लागूजी और उनके साथियों का नाम कॉलेज के प्रिंसिपल के पास तक पहुँच गया। लागूजी को जानने वाले जानते हैं कि उन्हें गुस्‍से में या आपा खोते शायद ही कभी किसी ने देखा हो। वो अपनी बात पर दृढ़ रहते हुए भी लहजे में सख्‍त या अभद्र कभी नहीं होते
ग्वालियर में आर.एस.एस. से जुड़ने के बाद बहुत जल्द ही उसकी नफरत और पूर्वाग्रही विचारधारा की वजह से उससे विमुख होने लगे थे। आर.एस.एस. के किसी बड़े पदाधिकारी की ग्वालियर यात्राा के दौरान स्‍थानीय नेताओं ने उससे लागूजी की शिकायत की कि लागू आजकल कम्युनिस्ट विचारधारा के असर में जा रहा है। उन्होंने लागूजी की थाह लेने के लिए विशेष बैठक के लिए बुलाया। लागूजी बताते थे कि उस बैठक के बाद मेरे दिल में ये बात और पुख्‍ता हो गयी कि मेरे सवालों के जवाब आर.एस.एस. या हिन्‍दू महासभा के पास नहीं हैं, और न ही इन लोगों को मनुष्‍य द्वारा मनुष्‍य के शोषण की वजहों की कोई समझ है।
कॉमरेड लागू ने स्‍टेंसिल काटने और छापने की कला ग्वालियर में ही सीख ली थी। इससे वो और उनके साथी अंग्रेजों के खिलाफ परचे बनाकर विक्‍टोरिया कॉलेज और अन्‍य जगहों पर चिपकाया करते थे। एक बार तो किसी अध्‍यापक ने उनके हाथ में स्‍याही देख कर उन पर शक कर ही लिया था कि कॉमरेड लागू के भोले चेहरे को देखकर उनके बहाने पर यकीन कर उन्हें छोड़ दिया।...तो उनके अंग्रेज प्रिंसिपल मिस्‍टर एम. ए. इंगिलश ने (प्रिंसिपल का नाम वो खासतौर पर याद करके दो बार बताते थे) ने उनके विनम्र लहजे से धोखा खाते हुए उन्हें लालच दिया कि तुम तो बहुत सभ्‍य और शरीफ हो, अगर तुम बाकी लोगों के खिलाफ गवाही दे दो और बाकियों के नाम बता दो तो तुम्हें कोई सजा नहीं दी जाएगी। उस पर लागूजी ने जो जवाब उस अंग्रेज प्रिंसिपल को दिया, वो न मुझे भूलता है और न उस अंग्रेज प्रिंसिपल मिस्‍टर एम. ए. इंगिलश को कभी भूला होगा। उन्होंने कहा - क्‍या बगैर बदतमीजी किये आप मुझे सजा नहीं देंगे? नतीजा ये हुआ कि वो कॉलेज से बर्खास्‍त हुए। ग्वालियर में तो कहीं पढ़ सकना मुमकिन नहीं रहा था। अंग्रेजी राज विरोधी गतिविधियों में उनकी संलग्‍नता के चलते पुलिस उनके पीछे पड़ी थी और वे पुलिस से बचते हुए ग्वालियर से किसी और रिश्‍तेदार के यहाँ उज्‍जैन पहुँच गए।
इस बीच उनका परिचय कम्युनिस्ट विचारधारा के साथ हुआ जो तर्कप्रिय लागूजी को अपने सवालों का सही जवाब सुझाती महसूस हुई। लगातार अध्‍ययन, मनन और गहन विचार-विमर्श से तथा अंततः साने गुरूजी की सलाह से प्रेरित होकर उन्होंने आर.एस.एस. को पूरी तरह त्‍याग कर वामपंथ की राह अपनायी और अंत तक इस पर एक मजबूत साधक और सिपाही की भाँति डटे रहे।
लागूजी जो बने, उसमें उनके दोस्‍तों, सही मशविरा देने वाले परिजनों और साथी कॉमरेडों की भूमिका निस्‍संदेह महत्त्वपूर्ण थी। ग्वालियर से उज्‍जैन आने पर लागूजी कॉमरेड दिवाकर के संपर्क में आए। वैचारिक तौर पर तो उनका मन व मस्‍तिष्‍क मार्क्‍सवाद से प्रभावित हो रहा था लेकिन तब तक व्‍यावहारिक मार्क्‍सवाद से उनका साबका नहीं हुआ था। ये मौका दिया उन्हें कॉमरेड दिवाकर ने जो उस वक्‍त उज्‍जैन में ही स्‍टेट पीपुल्‍स काँग्रेस के नाम पर कम्युनिस्ट संगठन बनाने का काम कर थे। कॉमरेड दिवाकर ने ही बाद में लागूजी की क्षमता को भाँपकर उन्हें इन्‍दौर भेजा ताकि कपड़ा मिल मजदूरों के बीच कम्युनिस्ट संगठन को मजबूत बनाया जा सके।
जनवरी 1940 से इंदौर से बना उनका रिश्‍ता फिर कभी टूटा नहीं। इंदौर में ही चालीस के दशक में कॉमरेड अनंत लागू को होलकरों के बोराडे़ सरदार घराने की लड़की मालती से पे्रम हुआ और 1943 में मुंबई जाकर उन्होंने शादी कर ली। राजपरिवार से ताल्‍लुक रखने वाली उनकी जीवनसंगिनी ने अपने पति को देश और दुनिया की बड़ी जिम्‍मेदारियाँ निभाने के लिए मुक्‍त किया और खुद पूरी उम्र नौकरी करके बच्‍चों, परिवार और पति की भी जिम्‍मेदारी संभाली। आजादी के पहले और आजादी के बाद भी वे मजदूर आंदोलनों का नेतृत्‍व करते हुए कई बार जेल गये व पुलिस की ज्‍यादतियाँ सहीं, पर अपने दृढ़ कम्युनिस्ट विश्‍वासों से कभी डिगे नहीं।
उनके अध्‍ययन और संगठन की क्षमता को देखते हुए जब तत्कालीन मध्य भारत में पहली बार कम्युनिस्ट पार्टी का गठन हुआ तो 1943 में कॉमरेड लागू सहित कॉमरेड दिवाकर, कॉमरेड लक्ष्‍मण खंडकर, कॉमरेड टेम्‍बे, कॉमरेड उर्ध्‍वरेषे और कॉमरेड वैद्य; सिर्फ इन 6 लोगों को ही तमाम साक्षात्‍कारों के बाद पार्टी की सदस्यता दी गयी थी।
लागूजी ने मुंबई जाकर शादी तो कर ली लेकिन फिर कुछ वक्‍त बाद इंदौर वापस आ गये। नयी-नयी गृहस्‍थी की गाड़ी अपने स्‍वाभिमानी स्‍वभाव के साथ चलाने की कोशिश की लेकिन बहुत मुश्‍किलें आयीं। इंदौर के मिशन अस्‍पताल में पुताई का काम करने लगे। दो-चार दिन ही हुए थे कि किसी ने उन्हें पहचान लिया कि ये तो लागू है, कम्युनिस्ट! और उन्हें खड़े पाँव निकाल दिया गया। नौकरियों से निकालने के किस्से उनके बहुत थे। आज जहाँ राज टॉवर है, उस जमाने में वहाँ रेशम मिल हुआ करती थी। वहाँ वो किसी फर्जी नाम से साँचे चलाने का काम करने लगे। हफ्‍ता मुश्‍किल से बीता होगा कि कारखाने की जाँच के लिए आये लेबर इंस्‍पेक्‍टर की नजर लागूजी पर पड़ गयी और उसने तुरंत सेठ से कहकर लागूजी को बाहर करवा दिया। आज ये माहौल नहीं रहा लेकिन उस वक्‍त में कम्युनिस्ट होना वाकई बहुत बड़े साहस का काम होता था।
आजादी के ठीक पहले द्वितीय विश्‍वयुद्ध के दौरान कपड़ा मिल मजदूरों की तनख्‍वाहों में कटौती, बोनस और ओवरटाइम न देने संबंधी मसले, और विश्‍वयुद्ध खत्‍म होने मजदूरों की छँटनियों के खिलाफ इंदौर में कम्युनिस्ट जोरदार आंदोलन कर रहे थे। सन्‌ 1946 में 12 दिन लंबी चली एक ऐसी ही हड़ताल से परेशान होकर होलकर सरकार ने दमन का शिकंजा तेजी से कसा। तमाम कम्युनिस्ट नेताओं की धरपकड़ का दौर चला और नतीजा ये हुआ कि लगभग सभी वरिष्ठ नेता पकड़कर जेल में डाल दिये गये। सन 1946 में ही होमी दाजी भी कम्युनिस्ट पार्टी के मेम्‍बर बने थे, उसके पहले तक वो छात्रा संगठन में सक्रिय थे। दाजी साहब के बारे में लागूजी अक्सर बताते थे कि दाजी के पढ़े-लिखे होने, उनके लंबे कद और आकर्षक व्‍यक्‍तित्‍व, आक्रामक, चुटीली किन्‍तु तर्कसंगत वक्‍तृत्‍व कला और शोषण के खिलाफ जमीनी कार्रवाइयों की वजह से दाजी मजदूर वर्ग व मध्यम वर्ग दोनों में समान रूप से जल्द लोकप्रिय हो गए। इसलिए 1946 में जब पार्टी के सभी वरिष्ठ नेता गिरफ्‍तार कर लिए गए तो अपेक्षाकृत युवा होमी दाजी को पार्टी और एटक की कमान सौंपी गयी जिसे आगे उन्होंने और बुलंदियाँ दीं।
कॉमरेड दाजी छात्रा संगठन ए.आई.एस.एफ. में थे। उन्हें मजदूर संगठन एटक से जोड़ने और कम्युनिस्ट पार्टी का सदस्‍य बनाने वाले कॉमरेड लागू ही थे। पेरीन काकी ने लागूजी के निधन पर कहा था, ‘अगर लागू न होते तो दाजी भी न होते।' बाद में कॉमरेड लागू ने ही कॉमरेड दलाल, कॉमरेड सरमंडल, कॉमरेड भगवान भाई बागी, कॉमरेड इंदु मेहता आदि विलक्षण प्रतिभा और प्रतिबद्धता वाले लोगों को संगठन से जोड़ा।
आजादी के बाद भी कम्युनिस्टों के लिए न संघर्ष खत्‍म हुआ था और न ही संकट। नेहरूजी अपनी तमाम प्रगतिशीलता के बावजूद कम्युनिस्टों को और उनकी धारदार ट्रेड यूनियनों को न दबा पाये थे और न ही उन्हें मिश्रित अर्थव्‍यवस्‍था के लुभावने नारे से बहला पाये थे।
आजादी के बाद सारे देश में कम्युनिस्ट पार्टी पर लगे प्रतिबंध हटा लिए गए थे लेकिन भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की कलकत्ता काँफ्रेंस (28 फरवरी से 6 मार्च 1948) में पार्टी ने आजाद भारत की बुर्जुआ सरकार के खिलाफ आक्रामक संघर्ष की लाइन अपनायी थी। इस वजह से देश के कई हिस्‍सों में कम्युनिस्ट पार्टी व एटक प्रतिबंधित थी। इन्‍दौर में भी ये प्रतिबंध लागू थे। ये प्रतिबंध इन्‍दौर में भारतीय गणतंत्रा की घोषणा के साथ 26 जनवरी 1950 को खत्‍म हुए। इस दौरान लागूजी सहित सभी कम्युनिस्ट नेता लगातार जेल के अंदर-बाहर होते रहे। लागूजी बताते थे कि अनेक पुलिसवाले और जेलवाले तो उनके साथ बहुत सम्मान से पेश आते थे।
आजादी के पहले और आजादी के बाद कई बार लागूजी गिरफ्‍तार हुए और कई बार पुलिस को उन्होंने चकमा दिया। एक किस्सा वो सुनाते थे कि जब उन्हें गिरफ्तार करने घर पर पुलिस आयी तो वो पीछे की खिड़की से कूदकाद कर पड़ोस के घर में जा पहुँचे जो किसी वोहरा महानुभाव का घर था। पुलिस तलाश करते-करते उन वोहरा सज्जन के घर तक जा पहुँची। उन वोहरा सज्जन ने लागूजी को बुर्का पहनाकर घर की महिलाओं के साथ रसोई में अंदर कर दिया और पर्दा डाल दिया। पुलिस बाकी घर की तलाशी लेकर जब रसोई की तलाशी लेने आगे बढ़ी तो उन सज्जन ने एतराज किया कि हमारे घर की महिलाएँ पर्दे में रहती हैं और आप भीतर दाखिल होकर उनकी बेइज्जती नहीं कर सकते। तब भी पुलिस न मानी तो उन्होंने इसरार किया कि अच्छा, वो बुर्का नहीं हटाएँगी, आप दूर से ही देख लीजिए। पुलिसवाले मान गये और बुर्कानशीं लागूजी गिरफ्‍तार होने से बच गए। अनेक मुस्‍लिमों और वोहरा समुदाय के लोगों से उनके नजदीकी संबंध आखिर तक बने रहे। स्वयं डॉ.असगर अली इंजीनीयर जब भी इन्दौर आते तो संदर्भ केन्द्र पर कॉमरेड लागू, कॉमरेड दलाल, कॉमरेड शिन्त्रे, कॉमरेड श्रोत्रिय, श्री जसबीर चावला आदि जरूर इकट्‌ठे होते। लागूजी के निधन की सूचना जब मैंने डॉ.असगर अली इंजीनीयर को मैसेज के जरिये दी तो तत्‍काल ही उनका फोन आया। उनकी आवाज एक मजबूत और इतने पुराने साथी के जाने के रंज से भीगी हुई थी।
इंदौर में छात्रा आंदोलन को संगठित करने से लेकर शुरू हुई 1940 से उनकी यात्रा लगातार संघर्षों के नये-नये दस्तावेज रचती रही। कपड़ा मिलों के मजदूरों का आंदोलन हो या बैंक, एल.आई.सी., कारखाना कर्मचारियों के मसले, कॉमरेड लागू एक कुशल संगठक की तरह मजदूरों-कर्मचारियों को एकजुट करते गये। जैसी आजादी आयी थी, उसमें जाहिर था कि अंग्रेजों से अपना मुल्क भले हमें मिल गया हो लेकिन गरीबों के हक की लड़ाई अभी दूर तक लड़ी जानी थी। इंदौर में सबसे बड़ी तादाद कपड़ा मिल मजदूरों की थी और अनेक मजदूरों की तो तीसरी पीढ़ी कपड़ा मिलों में काम कर रही थी। उनकी आबादी बढ़ चुकी थी और उनके रहन-सहन का कोई पर्याप्त बंदोबस्त न मिल मालिकों ने किया था, न सरकार ने। इसके साथ ही और उद्योग-धंधों में लगे मजदूरों की छत का भी सवाल था। इन मसलों को लेकर इंदौर के कम्युनिस्टों ने न केवल लड़ाई लड़ी, बल्कि ऐसे उदाहरण कायम किये कि सरकारी अधिकारियों को भी उनकी प्रशंसा पर मजबूर होना पड़ा। कॉमरेड लक्ष्मण खंडकर के नेतृत्व में कॉमरेडों ने इंदौर के मिल मजदूरों को साथ लेकर पूरी तरह कानूनी तौर पर सहकारी संस्था से मिल मजदूरों के लिए सुव्यवस्थित आवास बनवाये। लेकिन हर जगह कानून और सरकार साथ नहीं देने वाले थे, इसलिए मेहनतकश गरीबों-मजदूरों को साथ लेकर अनेक जगह सरकारी जमीनों पर गरीबों के आवास के लिए जमीन पर कब्जा किया गया। लागूजी वैसे तो हर संघर्ष का अहम हिस्सा थे लेकिन सर्वहारा नगर के मामले में कई बार उनकी पुलिस से भी झड़पें हुईं। आखिरकार जब तत्कालीन प्रशासनिक अधिकारी श्री एम.एन. बुच ने सर्वहारा नगर की योजना को लागूजी के साथ देखा-समझा तो उन्होंने न केवल उसे कानूनी हैसियत दिलाने में भूमिका निभायी बल्कि लागूजी की कॉलोनी की योजना और व्यवस्था से प्रभावित होकर प्रशंसा भी की।
आजाद भारत में जनतांत्रिक तरीकों से संघर्ष में विश्वास रखते हुए वे नगर निगम और विधान सभा का चुनाव भी लड़े। चुनावों में हार के बावजूद उनके प्रतिद्वंद्वी उनका सम्मान करते थे और उनकी प्रतिष्ठा को किसी चुनावी हार ने कभी धूमिल नहीं किया। जो काम उन्होंने अपने लिए चुना उसमें कामयाबी-नाकामी से ज्यादा उस काम को ठीक से करना अहम था जिस पर उनका विश्वास था।
जानने वाले बताते हैं कि जवानी के दिनों में लागूजी को उन्होंने साइकल पर पार्टी का साहित्य, अखबार व पुस्तिकाऐं चौराहों पर बेचते देखा था। तब आम मजदूर भी और आम मध्यवर्गीय भी पार्टी का साहित्य गंभीरता से पढ़ा करता था। बाद में भी इंदौर की भीड़-भाड़ भरी सड़कों पर 80 बरस के लागूजी अपने स्कूटर से पार्टी के अखबार ‘मुक्ति संघर्ष', और पार्टी की मराठी पत्रिका ‘युगांतर' आदि के स्थायी सदस्यों को खुद अखबार और पत्रिका पहुँचाया करते थे। इसके पीछे उनका फलसफा ये था कि इस बहाने से पार्टी के कॉमरेडों व हमदर्दों से व्यक्तिगत संपर्क बना रहता है। शायद सन 2004 के आसपास उनका एक्सीडेंट हुआ था जिसके बाद उन्होंने अपना स्‍कूटर चलाना बंद कर दिया था। लेकिन
“जेल रोड पर एक गली में छोटे से कमरे में हम लोग मीटिंग करते थे। बाद में हमने उस गली का नाम ही लाल गली रख दिया था,” एक ने बताया। दूसरे ने तुरंत ही उसमें जोड़ा, “मीटिंग में पहले जाकर झाड़ू लगाते थे, दरी बिछाते थे, माइक लगाते थे और फिर हाथ-मुँह धोकर हममें से ही कोई भाषण दे देता था, कोई अध्‍यक्षता कर लेता था।” ये बातें करने वाले दोनों सज्जन कोई और नहीं, जननेता कॉमरेड होमी दाजी और इन्दौर में कम्युनिस्ट पार्टी के संस्थापकों में से एक कॉमरेड अनंत लागू थे। ये शायद 5 सितंबर 2007 की बात है, जब मैं लागू जी को लेकर दाजी काका के जन्मदिन पर उनके पास आया था। दोनों बुजुर्गों को बोलने में मुश्किल आती थी। दाजी काका की जुबान लकवे के बाद से ऐंठ गयी थी, इसलिए वे जो बोलते थे, उसमें उन्हें काफी ताकत लगती थी, और थोड़ा अतिरिक्त प्रयास सुनने वाले को भी करना पड़ता था। लागू साहब को अस्थमा की शिकायत होने से उन्हें बोलने में और हमें समझने में मेहनत लगती थी। फिर भी दोनों पुराने दोस्त करीब-करीब 60 बरस पुरानी घटनाओं को बिल्‍कुल सहज अंदाज में याद कर रहे थे। उनके झुर्रियों भरे चेहरे के नीचे से झाँकता एक निष्‍कलुष, मासूम और उत्‍साही चेहरा दिख रहा था। हमारी आँखें खुशी के मारे गीली हो रहीं थीं। काकी, यानी कॉमरेड पेरीन दाजी, यानी होमी दाजी की जीवन संगिनी उन दोनों बच्‍चों नुमा बुजुर्गों को खुश होता देखकर हमसे बोलीं  “इनका यही टॉनिक है। तुम लोग आकर दुनिया जहान की बातें करते हो तो ये जिंदगी में रुचि लेने लगते हैं, वर्ना सुस्त रहते हैं।” (‘मजदूरों के संगठित संघर्षों के अपराजित प्रतीकः कॉमरेड होमी दाजी' लेख का अंश )
अक्सर वे फोन पर अखबार की पहुँच की पूछताछ और उसके सुविधानुसार भुगतान की याद दिलाते रहते थे। सुनने में ये काम छोटा लगता है लेकिन यही उस वक्त के कॉमरेड्स की खासियत थी कि उन्होंने जो काम लिया, वो उसे पूरी शिद्दत और जिम्मेदारी से करते थे।
सत्तर वर्षों तक मजदूरों के अधिकारों और इस दुनिया को शोषणविहीन समाज में बदलने के अनथक संघर्ष में लगी रही कॉमरेड अनंत लागू की महायात्रा 3 अप्रैल 2010 को थम गयी। अंग्रेजों के दमन के खिलाफ 1940 से आरंभ किये अपने आंदोलन को आजादी के बाद भी कॉमरेड अनंत लागू ने देश के भीतर मजदूरों व शोषितों के अधिकारों के लिए जारी रखा। इंदौर, अविभाजित मध्य प्रदेश, मध्य भारत में लगातार सक्रिय रहकर उन्होंने कम्युनिस्ट आंदोलन का मजबूत आधार तैयार किया व आखिरी वक्त तक देश के, समाज के आखिरी इंसान की फिक्र करते हुए 87 वर्ष की आयु में इस संसार को अलविदा कहा। उनकी देह, उनके दोस्त कॉमरेड होमी दाजी की ही भाँति कपड़ा मिल श्रमिक क्षेत्रा के श्मशान में अग्नि को समर्पित की गयी। दोनों कॉमरेड्‌स ने अपने जीवन को ही नहीं, अपनी मृत्यु को भी कई मायनों में अनुकरणीय बनाया। आडम्बरों से जीवन भर दूर रहे कॉमरेड लागू ने इसकी हिदायत जीते जी ही दे दी थी कि मेरी मृत्यु के बाद कोई शोकसभा न की जाए। वे शबिदों की जुगाली में नहीं, असल में लोगों को उस रास्ते पर चलते देखना चाहते थे जहाँ उस व्यवस्था का अंत हो जिसमें इंसान ही इंसान का शोषण करता है।
ईमानदारी, प्रतिबद्धता और शोषणविहीन दुनिया का ख्वाब उन्होंने प्रदेश में अनेक युवाओं को विरासत में दिया। उनके शांत व्यक्तित्व के भीतर गहन ज्ञान का सोता बहता था और वे प्रगतिशील लेखक संघ व इप्टा जैसे संगठनों से भी एक दिग्‍दर्शक की तरह सतत जुड़े रहे थे। कॉमरेड लागू ने अपनी देह त्याग दी, लेकिन उनकी सतत संघर्ष की कहानियाँ व लगातार जिंदादिल रहने की उनकी ताकत हमें याद दिलाती रहेगी कि ख्वाब मरते नहीं। .....कॉमरेड लागू को हम सभी का लाल सलाम।
 विनीत तिवारी
मेरी भी आभा है इसमें
नये गगन में नया सूर्य जो चमक रहा है
यह विशाल भूखण्‍ड आज जो दमक रहा है
मेरी भी आभा है इसमें
भीनी-भीनी खुशबू वाले
रंग-बिरंगे
यह जो इतने फूल खिले हैं
कल इनको मेरे प्राणों ने नहलाया था
कल इनको मेरे सपनों ने सहलाया था
पकी सुनहली फसलों से जो
अबकी यह खलिहान भर गया
मेरी रग-रग के शोणित की बूँदें इसमें मुसकाती हैं
नये गगन में नया सूर्य जो चमक रहा है
यह विशाल भूखण्‍ड आज जो दमक रहा है
मेरी भी आभा है इसमें
- नागार्जुन
संदर्भ केन्द्र, इन्दौर
संपर्कः 09893192740] 09425096544] 0731&2566153
bZesy% sandarbhcommune@yahoo.com, comvineet@gmail.com

(मित्रों कॉमरेड लागु को याद रखना और उनके रास्ते पर चलते रहना एक सच्चे मनुष्य की जरूरत है। मेरी उनसे दो-चार मुलाकातें भर हैं। लेकिन मैं उनके व्यक्तित्व का मूरीद रहा हूँ। अचानक विनीत का यह आलेख हाथ लग गया। सोचा आप सब से साझा करूँ। - प्रदीप मिश्र)

Monday 11 October 2010

विश्व में पहली बार जो भाषा रिकार्ड हुई थी वह संस्कृत थी

HMV had once published a pamphlet giving the history of gramophone record. Gramophone was invented by *Thomas Alva Edison* in the 19th century. Edison, who had invented many other gadgets like electric light and the motion picture camera, had become a legend even in his own time. When He invented the gramophone record, which could record human voice,he wanted to record the voice of an eminent scholar on his first piece. For that he chose Prof. Max Muller. He wrote to him "I want to meet you and record your voice. When should I come?" Max Muller who had great respect for Edison asked him to come on a day when most of the scholars of Europe would be gathering in England. Accordingly, Edison took a ship and went to England. He was introduced to the audience. All cheered Edison's presence. Later at the request of Edison Max Muller came on the stage and spoke in front of the instrument. Then Edison went back to his laboratory and by afternoon came back with a disc. He played the gramophone disc from his instrument. The audience was thrilled to hear the voice of Max Muller from the instrument.They were glad that voices of great persons like Max Muller could be stored for the benefit of posterity. After several rounds of applause and congratulations to Edison, Max Muller addressed the scholars "You heard my original voice in the morning and the same voice in the afternoon. Do you understand what I said in the morning or what you heard in the afternoon?". The audience including many European scholars fell silent because they could not understand the language in which Max Muller had spoken. Max Muller then explained that the language he spoke was *Sanskrit* and it was *Rig Veda*. This was the first recorded public version on the gramophone plate. Why did Max Muller choose this? Addressing the audience he said, "Vedas are the oldest text of the human race. And *Agni Meele Purohitam* is the first verse of Rig Veda. In the most primordial time when the people of Europe were jumping like Chimpanzees, from tree to tree, when they did not know how to cover their bodies, did not know agriculture and lived by hunting and lived in caves, Indians had attained high civilization and they gave to the world universal philosophies 
(यह मेल पुनर्वसु ने अपने पिता को लिखा। कहीं से मुझे मिल गया तो मैंने टीप लिया। आप सबको पढ़ाने को लोभ संवरण संवरण नहीं कर पाया, अतः प्रस्तुत कर रही हूँ। मित्रों पुनर्वसु जोशी अमेरिका के एरिजोना में नैंनों तकनीक पर शोध कर रहे हैं। पिछले दिनों अपने शोध और व्याख्यानों के लिए काफी चर्चित रहें। यह मेंल भी मुझे उनके एक बड़े शोध पत्र की तरह दिखाई दे रहा है। मैं इसे आइने की उन तथा कथित भारतीय विद्वानों को दिखाना चहता हूँ। जो रोज सुबह किसी पाश्चात देश से आयातित आइने में अपना चेहरा देखते गर्व से फूलते हुए बुद-बुदाते हैं- Thanks MOM-DAD you have done great JOB. I am good hybrid. I like hybrid, I love to be hybrid and want to see my next generation more hybrid. कृपया इनको दोगला न कहा जाए।- प्रदीप मिश्र)

Wednesday 1 September 2010

‘भाषा की भद्रता’ को मसखरी में बदला जा रहा है



 प्रभु जोशी
जन्म: 12 दिसंबर, 1950 देवास (मध्य प्रदेश) के गाँव राँवा में।
शिक्षा: जीवविज्ञान में स्नातक तथा रसायन विज्ञान में स्नातकोत्तर के उपरांत अंग्रेज़ी साहित्य में भी प्रथम श्रेणी में एम.ए.। अंग्रेज़ी की कविता स्ट्रक्चरल ग्रामर पर विशेष अध्ययन।
कार्यक्षेत्र: पहली कहानी 1973 में धर्मयुग में प्रकाशित। 'किस हाथ से', 'प्रभु जोशी की लंबी कहानियाँ' तथा उत्तम पुरुष' कथा संग्रह प्रकाशित। नई दुनिया के संपादकीय तथा फ़ीचर पृष्ठों का पाँच वर्ष तक संपादन। पत्र-पत्रिकाओं में हिंदी तथा अंग्रेज़ी में कहानियों, लेखों का प्रकाशन। चित्रकारी बचपन से। जलरंग में विशेष रुचि।
लिंसिस्टोन तथा हरबर्ट में आस्ट्रेलिया के त्रिनाले में चित्र प्रदर्शित। गैलरी फॉर केलिफोर्निया (यू.एस.ए.) का जलरंग हेतु थामस मोरान अवार्ड। ट्वेंटी फर्स्ट सेन्चरी गैलरी, न्यूयार्क के टॉप सेवैंटी में शामिल। भारत भवन का चित्रकला तथा म. प्र. साहित्य परिषद का कथा-कहानी के लिए अखिल भारतीय सम्मान। साहित्य के लिए म. प्र. संस्कृति विभाग द्वारा गजानन माधव मुक्तिबोध फेलोशिप। 
बर्लिन में संपन्न जनसंचार के अंतरराष्ट्रीय स्पर्धा में आफ्टर आल हाऊ लांग रेडियो कार्यक्रम को जूरी का विशेष पुरस्कार धूमिल, मुक्तिबोध, सल्वाडोर डाली, पिकासो, कुमार गंधर्व तथा उस्ताद अमीर खाँ पर केंद्रित रेडियो कार्यक्रमों को आकाशवाणी के राष्ट्रीय पुरस्कार। 'इम्पैक्ट ऑफ इलेक्ट्रानिक मीडिया ऑन ट्रायबल सोसायटी' विषय पर किए गए अध्ययन को 'आडियंस रिसर्च विंग' का राष्ट्रीय पुरस्कार।संप्रति: स्वतंत्र लेखन एवं पेंटिंग। पिछले दिनों लगातार जयपुर और मुम्बई में कला प्रदर्शनी आयोजित किया। इनके चित्रों को हिन्दुस्तान तथा विदेश के लोगों ने केवल पसंद किया, बल्कि खरीदा भी। आजकल एक उपन्यास लिख रहे हैं।
संपर्क : prabhu.joshi@gmail.com 

( आज से हिन्दी सप्ताह शुरू हो रहा है। इसे सरकारी औपचारिकता की तरह से मना लिया जाएगा। जैसा हर वर्ष होता है। देश के तमाम सरकारी कार्यालय हिन्दी की डंका पीटेंगे और आर्थिक रूप से खर्चा की सूची नियंत्रक को सौंपकर, अपनी जिम्मेदारी से निवृत्त हो जाऐंगे। खैर इस विडम्बना में, प्रभुजोशी जी का एक आलेख हाथ लग गया, जो पिछले दिनों हिन्दी के स्वनाम धन्य वरिष्ठ और गरिष्ठ लेखकों के विवाद के माध्यम से हिन्दी भाषा के वर्तमान और भविष्य पर कुछ जरूरी सवाल खड़ा करता है। इस तरह के सवालों से दो-चार होने की जरूरत देश के हर नागरिक को है। वेसे तो इस विषय पर हिन्दी में खुब लिखा-पढ़ा गया, लेकिन प्रभु जी के विचार अलग हैं। तो आइए कम से कम इस बार के हिन्दी सप्ताह से अपने अन्दर हिन्दी के प्रति एक कशिश जगा लें और दिल खोलकर जिरह करें- प्रदीप मिश्र) 
 
सुपरिचित कथाकार और सम्प्रति महात्मा गांधी अन्तरराष्ट्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति श्री विभूतिनारायण राय ने ज्ञानपीठ से प्रकाशित होने वाली पत्रिकानया ज्ञानोदयमें प्रकाशित अपने एक साक्षात्कार मेंसमकालीन स्त्री विमर्शके केन्द्र में चल रहीवैचारिकीपर बड़ी मारक टिप्पणी करते हुए यह कह डाला कि लेखिकाओं का एक ऐसा वर्ग है, जो अपने आपको बड़ाछिनालसाबित करने में लगा हुआ है। कदाचित् यह टिप्पणी उन्होंने कुछेक हिन्दी लेखिकाओं द्वारा लिखी गई आत्म कथात्मक पुस्तकों को ध्यान में रख कर ही की होगी। हालांकि इसको लेकर दो तीन दिनों से प्रिण्ट और इलेक्ट्रॉनिक दोनों ही मीडिया में बड़ा बवण्डर खड़ा हो गया है। लेकिन, हिन्दी भाषा-भाषी समाज में यह वक्तव्य अब चैंकाने वाला नहीं रह गया है। इस शब्दावलि से अब कोई अतिरिक्तसांस्कृतिक-ठेसनहीं लगनी चाहिए। क्योंकि, ‘कल्चर-शॉकका वह कालखण्ड लगभग अब गुजर चुका है। उत्तर औपनिवेशिक समय ने हमारी भाषा केसांस्कृतिक स्वरूपको इतना निर्मम और अराजक होकर तोड़ा है किसम्पटही नहीं बैठ पा रही है कि कहाँ, कब क्या और कौन-सा शब्द बात कोहिटबनाने की भूमिका में जायेगा। हमारे टेलिविजन चैनलों पर चलने वालेमनोरंजन के कारोबारमें भाषा की ऐसी ही फूहड़ता की जी-जान से प्राण-प्रतिष्ठा की जा रही है।भीड़ू’, ‘भड़वेऔरकमीनेशब्दनितान्त’ ‘स्वागत योग्यबन गये हैं।इश्क-कमीनेशीर्षक से फिल्म चलती है और वह सबसे ज्यादाहिटसिद्ध होती है। संवादों में गालियाँ संवाद का कारगर हिस्सा बनकर शामिल हो रही हैं। इसलिएछिनालयाछिनालेंशब्द से हिन्दी बोलने वालों के बीच तह--बाल मच जाये, यह अतार्किक जान पड़ता है। क्योंकि जिस विस्मृति के दौर मेंभाषा की भद्रताको मसखरी में बदला जा रहा है, वहाँ ऐसे शब्दों को लेकरबहसहमें यह याद दिलाती है कि आखिर हम कितने दु-मुँहे और निर्लज्ज हैं कि एक ओर जहाँ हमस्लैंगके लिए हमारे जीवन में संस्थागत रूप से जगह बनाने का काम कर रहे हैं, तो वहाँ फिर अचानक इस फूहड़ता पर आपत्तियाँ क्यों आती हैं ?



चौंकाता केवल यह है कि एक चर्चित, और गंभीर लेखक अपने वक्तव्य में ऐसी असावधानी का शिकार कैसे हो जाता है ? दरअस्ल, वह कहना यही चाहता था कि आज के लेखन मेंहेट्रो सेक्चुअल्टी‘ (यौन-संबंधों की बहुलता) स्त्री के साहस काअलंकरणबन गया है। विवाहेत्तर संबंधों की विपुलता का बढ़-चढ़ कर बखानस्त्री की स्वतंत्रताका प्रमाणीकरण बनने लगा है। यौन संबंधों की बहुलता उसके लिए अपने देह के स्वामित्व को लौटाने का बहुप्रतीक्षित अधिकार बन गई है। हालांकि, इस पर अलग से गंभीरता से बात की जा सकती है।

क्योंकि इन दिनों हिन्दी साहित्य में स्त्री-पुरुष संबंधों मेंएकनिष्ठताको स्त्री का शोषण माना और बताया जाने लगा है। खासकर हिन्दी कथा साहित्य में यह हो गया है। कविता में भी है किउत्तर आधुनिक बेटी’, अपनी माँ को दूसरे प्रेमी के लिए काँच के सामने श्रृंगार करते देखती है तो प्रसन्नता से भर उठती है। उसे माँ के एकअन्य पुरूषसे होने वाले संबंध पर आपत्ति नहीं है। ऐसी कविता सामाजिक जीवन में एकनई स्त्री की खोजबन रही है तो दूसरी तरफ कथा साहित्य मेंनिष्ठाएक घिसा हुआ शब्द हो चुका है। निष्ठा से बंधी स्त्री कोमॉरल फोबियासे ग्रस्त स्त्री का दर्जा दे दिया जाता है। याद दिलाना चाहूँगा, हेट्रो सेक्चुअल्टी को शौर्य बनाने की युक्ति का सबसे बड़ा टेलिजेनिक प्रमाण था, कार्यक्रमसच का सामना  जिसमें मूलतःसेक्सको लेकर सवाल किये जाते थे और जिसमें विवाहेत्तर यौन संबंधों की बहुलता का बखान कर दिया, वह पुरस्कार के प्राप्त करने का सबसे योग्य दावेदार बन जाता था। बहरहाल, इसी तरह के घसड़-फसड़ समय को जाक्स देरिदा ने कहा है, ‘टाइम फ्रैक्चर्ड एण्ड टाइम डिसज्वाइण्टेड यानी चीजें ही नहीं, भाषा और समाज टूट कर कहीं से भी जुड़ गया है। भाषा से भूगोल को, भूगोल को भूखे से और भूखे को भगवान से भिड़ा दिया जाता है। इसे हीपेश्टिचकहते हैं। मसलन, अगरबत्ती के पैकेट पर अब अर्द्धनिवर्सन स्त्री, ‘देह के चरम आनंद’  की चेहरे पर अभिव्यक्ति देती हुई बरामद हो जाती है। हो सकता है सिंदूर बेचने की दूकान का दरवाजा देह-व्यापार की इमारत में खुल जाये। पहले मंदिर जाने के बहाने से प्रेमी से मिला जाता था, लेकिन अब मंदिर प्रेम के लिए सर्वथा उपयुक्त और सुरक्षित जगह है। एक नया सांस्कृतिक घसड़-फसड़ चल रहा है, जिसमें बाजार एकमहामिक्सरकी तरह है, जो सबको फेंट करएकमेककर रहा है। अब शयनकक्ष का एकान्त चौराहे पर है। और बकौल गुलजार के बाजार घर में घुस गया है।

समाज में एक नयापारदर्शीपनगढ़ा जा रहा है, जिसमें सब कुछ दिखायी दे रहा है और नई पीढ़ी उसकी तरफ अतृप्त प्यास के साथ दौड़ रही है और अधेड़ पीढ़ीसांस्कृतिक अवसादमें गूंगी हो गई है। उसकी घिग्घी बँध गयी है। और, शायद सबसे बड़ी घिग्घीभाषा के भदेसपनपर बँधी हुई है। अंतरंग कोबहिरंगबनाती भाषा के चलते ही, लम्पट-मुहावरे अभिव्यक्ति का आधार बन रहे हैं। और इस पर सबसे ज्यादा सांस्कृतिक ठेस हमारी उस भद्र मध्यमवर्गीय चेतना को लग रही है, जो कभी-कभी मीडिया अपने हित में जागृत कर लेता है। अगर मोबाइल पर युवाओं के बीच की बात को लिखित रूप में प्रस्तुत कर दिया जाये तो हम जान सकते हैं कि भाषा खुद अपने कपड़े बदल रही है। उसे कुछज्ञान के अत्यधिक मारे लोगभाषा कीफ्रेश लिग्विंस्टिक लाइफकह रहे हैं। लेकिन, संबंधों को लम्पट भाषा के मुहावरे में व्यक्त किया जा रहा है।

दरअस्ल, विभूतिनारायण राय अपनी अभिव्यक्ति में असावधान भाषा के कारण, भर्त्स्ना के भागीदार हो गये हैं। क्योंकि, वे निष्ठाहीनता को लम्पटई की शब्दावली के सहारे आक्रामक बनाने का मंसूबा रख रहे थे। शायद, वे साहित्य के भीतर फूहड़ता के प्रतिष्ठानीकरण के विरूद्ध कुछहिट’  मुहावरे में कुछ कहना चाहते थे। मगर, वे खुद ही गिर पड़े। एक लेखक, जो वाणी का पुजारी होता है, वही वाणी की वजह से वध्य बन गया। याद रखना चाहिए कि बड़े युद्धों के आरंभ और अंत हथियारों से नहीं, वाणी से ही होते हैं। एक लेखक को शब्द की सामर्थ्य को पहचानना चाहिए।सूअरके बजायेवराहके प्रयोग से शब्द मिथकीय दार्शनिकता में चला जाता है। भाषा की यही तो सांस्कृतिकता है। इसे फलाँगे,  तो औंधे मुँह आप और आपका व्यक्तित्व दोनों ही एक साथ गिरेंगे और लहूलुहान हो जायेंगे। जख्म पर मरहम पट्टी लगाने वालों के बजाय नमक लगाने वालों की तादाद ज्यादा बड़ी होगी

लेखक का पताः 4, संवाद नगर, इन्दौर-452001

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...