Saturday 28 August 2010

हिन्दी भाषा और हमारे समय को लेकर कुछ और विचार

नरेन्द्र जी बहस को गतत दिशा में ले जा रहे हैं। उनको समझ में नहीं आ रहा है कि हम जिस विकृति की बात कर रहे हैं, वह आम आदमी द्वारा नहीं फैल रही है। आम आदमी हमेशा ही भाषा को, समृद्ध करता है। भाषा के विकास में उसका सबसे ज्यादा योगदान होता है। यह विकास की प्रक्रिया है। बहस भाषा को खत्म करने की है। न केवल भाषा, लिपि को भी बदलने की बात हो रही है। यही स्थती रही तो ज्यादा से ज्यादा एक दशक में हिन्दी लिपि सहित विस्थापित हो जाएगी। यह सब सोच-संझकर विभिन्न संस्थानों के द्वारा किया जा रहा है। जिसमें विदेशों अनुदान के चक्कर में आखबार कर रहै हैं। आँख खोल कर और जंग लगते हुए विवेक का संक्रिय करके ही इस षडयंत्र को समझ जा सकता है।

प्रदीप मिश्र
 
What is wrong for advocating pure Hindi
Some people are of the view that Hindi is a bottomless pit and it can accommodate unlimited amount of filth and garbage of English, Urdu and other language words. These people are of the view that garbage would enrich Hindi. Such people even do not like pure food, pure air as it is common in Bhaarat to get everything impure and polluted. No wonder by eating impure food, thoughts have also become impure.

From: NARENDRA VASAL <vasalji@gmail.com>

संसार  की सारी मुसीबतों कि जड़ सिर्फ ये है कि कुछ लोग स्वयं को किसी ख़ास विचारधारा, धर्म, संस्कृति या भाषा का स्वयंभू संरक्षक या ठेकेदार समझने लगते हैं. यदि  इंग्लिश या उर्दू के कुछ शब्द आम लोगों को आसानी से समझ जाते हैं तो वे इन का प्रयोग करेंगे ही. आप  जबरदस्ती उनको ऐसा करने से रोक नहीं सकते. लोग  वही करेंगे जो उनको अच्छा लगता है...... कम से कम भाषा के लिये तो यही नियम लागू होता है. बहुत  बड़े बड़े साहित्यकार बहुत उच्च कोटि का साहित्य रचते हैं. उनकी  ये रचनाएँ कौन खरीदता है? या तो स्कूल, कॉलेज के पुस्तकालय, कुछ अमीर लोग जो सिर्फ अपनी झूठी शान के लिये आल्मारी में इस तरह की पुस्तकें सजा कर रखते हैं पर उन्हें कभी पढ़ते नहीं, या फिर वे कुछ गिने चुने लोग जिन्हें वास्तव में उच्च कोटि के साहित्य की समझ और रूचि हैदूसरी  तरफ, सीधे सरल साहित्य या पेपरबैक्स की बिक्री पर नज़र डालिए और अंतर देखिये. हिंदी  बहुत अच्छी भाषा है, परन्तु देश भर में हिंदी के कई रूप हैं. जो  हिंदी बिहार में बोली जाती है वह मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में बोली जाने वाली हिंदी से भिन्न है. किसी  एक प्रदेश में बोली जाने वाली हिंदी में ही भिन्नता मिलती है. फिर  आप कौनसी हिंदी को सारे देशवासियों पर लागू करना चाहते हैं? जिस  हिंदी का प्रयोग आप और हम आज कर रहे हैं, अब से ५०० वर्ष पहले तो यह बोली जाती थी और ही लिखी जाती थी. परिवर्तन  सृष्टि का नियम है. यह  तो होगा ही. जो  लोग पुरातन को पकड़ कर बैठे रहेंगे, वे कालातीत हो जायेंगे. मेरा  आप से विनम्र निवेदन है कि प्रगतिशील बनिए. हिंदी  को अधिकाधिक समृद्ध बनाने का प्रयास करें और इस में अधिकाधिक नए शब्दों का समावेश करके इसका निरंतर विकास होने दें. कृपया  इसे कुछ गिने चुने लोगों की भाषा बनाने का प्रयास करें.नरेन्द्र --------------
Pratibha Saksena <pratibha_saksena@yahoo.com>
अति सर्वत्र वर्जयेत - मेरा विचार यह है इतनी हठवादिता  उचित नहीं .स्वाभाविक रूप से जो शब्द हिन्दी भाषा ने आत्सात् कर लिए हैं इन्हें बीन-बीन कर निकालने से भाषा की स्वाभाविकता ,और लोक जीवन से जुड़ाव   समाप्त हो जाएगा. भाषा की पाचन-शक्ति - जो सूर,तुलसी मीराँ  आदि मे भी मिलती है ,को बना रहने देने से ही उसकी जीवनी शक्ति और ऊर्जा क्षीण नहीं होगी .
यह मेरा अपना विचार है.
-          प्रतिभा सक्सेना.

Lately most of the Hindi media have started using lots of English and Urdu in Hindi while proper Hindi words are available. People who know better Hindi resent the intrusion of non-Hindi words in Hindi. Some of these people have started expressing their resentment against the use of non-Hindi words in Hindi in media and by writing articles and by comments which are posted on the internet. But some people as soon as see article on Hindi, start talking about imposition of Hindi, or Hindi chauvinism.
            Many people keep quoting that by adopting words from other languages; it has not only enriched itself but has become world language. Therefore some people keep saying that Hindi must adopt words from other languages. These words are mostly from the languages of former colonists that are mostly from the languages of Muslims and British people which is English and Urdu languages.
            It is true that due to inheritance weakness, English has adopted words from many languages which have enriched this language. English has to adopt words from other languages as due to its empire. English has to adopt the local words of various countries for which there was no English word. English has adopted heavily from Latin and Greek and other European countries.
            I have read at many places that Muslims do not accept words for Urdu from other languages. They adopt words only from Arabic, Turkish and Farsi only.
French people do not accept words from other languages and they spend much money to keep French pure.
Some other languages also do not accept words from other languages.
There is no harm if people adopt words for Hindi if the word is already not present. But why put so much filth in Hindi. Why Hindus promote so much filth in Hindi.

            But unlike English, not many countries of the world encourage to adopt words from other languages. In stead these languages prefer to create their own words according to the grammar and format of their language.
Hebrew language was considered a dead language... When Israel became independent, then in stead of adopting English or German language, they revived their own dead Hebrew language. A committee was formed to create words and another committee was formed to examine the newly formed Hebrew language words. Once some words were formed and approved, then those words were released to the media and it was became compulsory for all kinds of media to use those words.
            It is not like Hindi language media where one can use as much of filth and garbage of English and Urdu words in Hindi as one likes. Some Hindi media people write down full English sentences in Nagri script in Hindi papers and magazines.
           
The electronic Hindi media and India's cine industry are murdering our Hindi language by infusing Urdu words. This is all intentional and done through planned conspiracy. We should not patronize them. Most of the media in Bhaarat is owned by Christians and Muslims. It seems that these foreign media is bent upon destroying Hindi while for some people the filth of other languages is enriching Hindi language. 

            Even English abbreviations are used very frequently many times in almost all the Hindi newspapers. This abbreviations many times even English knowing people do not understand till explained, then how one can expect Hindi readers would understand these English abbreviation when even they do not know English. This kind of filth must stop in Hindi papers.  Hindi knowing people must boycott such Hindi papers and magazines which use English, Urdu words and English abbreviations in Hindi. Hindi knowing people must send protest letters and e-mails to newspapers and electronic media against the use of English, Urdu words in Hindi. Hindi knowing people must also boycott the product of the companies who give advertisement to such rotten papers, magazines and electronic media.
            In some countries of the world where Bhaaratiya people have settled. In those countries people have started publishing Hindi papers. If some body picks any Hindi paper, then a person would hardly find many Hindi words in Hindi papers as these Hindi papers are full of English and Urdu words. Most of the Hindi papers which are full of English and Urdu words write in Nagri script. There are proper Hindi words for most of the English and Urdu words used by Hindi papers.
What to say of Hindi papers, even management people of Hindu temples and Hindu organisations are not behind spreading slavery amongst Hindus by discarding Hindi and Sanskrit.  
If one analyzes to which community or what kind of people Hindu temples and other Hindu organisations serve, one would find strange situation. Most of the Hindu temples and Hindu organisations give advertisement in English in Hindi papers. One wonders whether the Hindu temples and Hindu organisations are formed here to spread English amongst Hindus and spread slavery in Hindus.

If some body picks Hindi paper, then it is assumed that he/she would know Hindi but still Hindu temples and Hindu organisations give their advertisements in English in Hindi papers. They might write a few words or one / two sentences in Hindi while the bulk advertisement is still in English.

If the advertisement is in English paper, then the full advertisement is in English without even a single word in Hindi.

While the trend should be that the temples and Hindu organisations should give full advertisement in Hindi  in Hindi papers without using even a single word of English and in English papers  half advertisement should be in Hindi and half in English so that people who do not know Hindi may see how Hindi words are written via English papers. 
It seems that all the temples and Hindu organisations are traitors of Hinduism and Hindi. 
Till  the temples and Hindu organisations behave properly and show patriotism and start playing their part in spreading Hindi and Sanskrit, people should boycott all kinds of temples and stop all kinds of donations to temples and associated peoples and organisations. 
These temple people and other Hindu organisations do not deserve even a single cent of Hindu money as donations.
---------------------
RAJEEV THEPRA <bhootnath.r@gmail.com>
hindi ke prati aap kyaa bananaa chaahenge....namak-halaal....ya haraamkhor.....???
मित्रो, बहुत ही क्रोध  के साथ इस विषय पर मैं अपनी भावनाएं आप सबके साथ बांटना चाहता हूँ ,वो यह कि हिंदी के साथ आज जो किया जा रहा है , जाने और अनजाने हम सब ,जो इसके सिपहसलार बने हुए हैं,इसके साथ जो किये जा रहे हैं....वह अत्यंत दुखद है...मैं सीधे-सीधे आज आप सबसे यह पूछता हूँ कि मैं आपकी माँ...आपके बाप....आपके भाई-बहन या किसी भी दोस्त-संबंधी, श्तेदार या ऐसा कोई भी जिसे आप पहचानते हैं....उसका चेहरा अगर बदल दूं तो क्या आप उसे पहचान लेंगे....??? एक दिन के लिए भी यदि आपके किसी भी पहचान वाले चेहरे को बदल दें तो वो तो कम , अपितु आप उससे अधिक "  परेशान "हो जायेंगे.....!!थोड़ी-बहुत बदलाहट की और बात होती है....समूचा ढांचा ही "रद्दोबदल" परिवर्तित कर देना कहीं से भी तर्कसंगत नहीं कहा  जा  सकता .....सिर्फ एक बार कल्पना करें ना आप....कि जब आप किसी भी वास्तु को एकदम से बिलकुल ही नए फ्रेम में नयी तरह से अकस्मात देखते हैं,तो पहले-पहल आपके मन में उसके प्रति क्या प्रतिक्रिया होती है...!!...तो थोडा-बहुत तो क्या बल्कि उससे
बहुत अधिक बदलाहट को हिंदी में स्वीकार ही कर लिया गया है बल्कि उसे अधिकाधिक प्रयोग भी किया जाने लगा है...यानी कि उसे हिंदी में बिलकुल समा ही लिया गया है....किन्तु अब जो स्थिति आन पड़ी है....जिसमें कि हिंदी को बड़े बेशर्म ढंग से ना सिर्फ हिन्लिश में लिखा-बोला-प्रेषित किया जा रहा है बल्कि रोमन लिपि में लिखा भी जा रहा है कुछ जगहों पर...और तर्क है कि
जो युवा बोलते-लिखते-चाहते हैं
...!!
....
तो एक बार मैं सीधा-सीधा यह पूछना या कहना चाहता हूँ कि युवा तो और भी " बहुत कुछ " चाहते हैं....!!तो क्या आप अपनी
प्रसार-संख्या बढाने के " वो सब " भी "उन्हें" परोसेंगे....??तो फिर दूसरा प्रश्न मेरा यह पैदा हो जाएगा....तो फिर उसमें आपके
बहन-बेटी-भाई-पत्नी-बच्चे सभी तो होंगे.....तो क्या आप उन्हें भी...."वो सब" उपलब्ध करवाएंगे ....तर्क तो यह कहता है दुनिया के सब कौवे काले हैं....मैं काला हूँ....इसलिए मैं भी कौवा हूँ....!!.... अबे,  आप इस तरह का तर्क लागू करने वाले "तमाम" लोगों अपनी कुचेष्टा को आप किसी और पर क्यूँ डाल देते हो
....??मैं बहुत क्रोध में आप सबों से यह पूछना चाहता हूँ...कि रातों-रात आपकी माँ को बदल दिया जाए तो आपको कैसा   लगेगा....?? यदि आप यह कहना चाहते हैं कि बिलकुल अच्छा नहीं लगेगा....या फिर आप मुझे गाली देना चाह रहे हों....या कि आप मुझे घृणा की दृष्टि से देखने लगें हो...इनमें से जो भी बात आप पर लागू हो, उससे यह तो प्रकट ही है कि ऐसा होना आपको
नागवार लगेगा बल्कि मेरे द्वारा यह कहा जाना भी आपको उतना ही नागवार गुजर रहा है....तो फिर आप ही बताईये ना कि आखिर किस प्रकार आप अपनी भाषा को तिलांजलि देने में लगे हुए हैं
??आखिर हिंदी रानी ने ऐसा क्या पाप किया है कि जिसके कारण आप इसकी हमेशा ऐसी-की-तैसी करने में जुटे हुए रहते है...??? .... हिंदी  ने आपका कौन-सा काम बिगाड़ा है या फिर उसने आपका ऐसा कौन-सा कार्य नहीं बनाया है कि आपको उसे बोले या लिखे जाने पर शरम अनुभव होती है....क्या आपको अपनी बूढी माँ को देखकर शर्म आती है...?? यदि हाँ ,तो बेशक छोड़
दीजिये माँ को भी और हिंदी को अभी की अभी....मगर यदि नहीं...तो हिंदी की हिंदी मत ना कीजिये प्लीज़....भले ही अँग्रेज़ी  आपके लिए ज्ञान-विज्ञान वाली भाषा है... मगर हिंदी का क्या कोई मूल्�¤

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...